Monday, September 12, 2011

साहसी है कौन?

साहसी है कौन वह जो,
लक्ष्य पर बढ़ता ही जाये।
जीत का इक गीत बुनकर,
कदमों में दुनिया झुकाये।

जिसकी धमनियों में बहता हो,
अटल का रक्त घुलकर,
श्वास भी  चलती हो ऐसे,
जैसे चल रहा हो नभ दल।

तेज से जगमग जलाता,
रौशनी सा वह सफर में,
धैर्य से कर मित्रता,
निभाता हर पल नव डगर में।

हौसला इतना बड़ा कि,
आसमां के पार हो ले,
हाथ पे लकीर खींचे,
खुद किस्मत का ताला खोले।

झुकते जिसके सामने,
पर्वत और अम्बर के सितारे,
देख कर प्रकाश जिसका,
सूर्य का भी तेज हारे।
पर नहीं अभिमान थोड़ा,
बढ़ गया जो लक्ष्य तेरा,
मँजिल तक पहुँचे बिना,
अब तो ना इक पल थकान आये।

साहसी है कौन वह जो,
लक्ष्य पर बढ़ता ही जाये।

19 comments:

सुमन'मीत' said...

aage badhne ko protsahit karti rachna...

प्रवीण पाण्डेय said...

वीर हो, जयी बनो, बढ़े चलो, बढ़े चलो।

रेखा said...

प्रेरित और उत्साहित करती हुई ओज से भरी हुई रचना .....

संजय भास्कर said...

आपकी हर कविता पढ़ते ही बनती है ............बहुत सुन्दर लिखा है आपने

संजय भास्कर said...

हर पंक्ति लाजवाब---और गहन अनुभूतियों को प्रतिबिम्बित करने वाली।

वाणी गीत said...

प्रेरक!

Dr (Miss) Sharad Singh said...

साहसी है कौन वह जो, लक्ष्य पर बढ़ता ही जाये। जीत का इक गीत बुनकर, कदमों में दुनिया झुकाये।

ओजपूर्ण कविता.....

prerna argal said...

बिलकुल सही कहा आपने लक्ष्य निर्धारित करके उस पर कितनी ही मुश्किलें आयें पर साहस के साथ बढ़कर अपने लक्ष्य को पा लेने वाला ही सबसे बढ़ा साहसी कहलाता है /बहुत ही शिक्षाप्रद और शानदार रचना /बहुत बधाई आपको /




please visit my blog
www.prernaargal.blogspot.com

Dr Varsha Singh said...

बहुत ही सुन्दर और सारगर्भित पोस्ट....

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

sushma 'आहुति' said...

सार्थक अभिवयक्ति....

Anita said...

बहुत ही सुंदर ! जोश दिलाती ओजस्वी कविता !

vinod said...

bahut hee khoobsurat.....

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

सार्थक और प्रेरक रचना |

मेरी नई रचना देखें-
**मेरी कविता:राष्ट्रभाषा हिंदी**

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बेहतरीन रचना ....

JHAROKHA said...

satyam ji
bahut hi oj purn v prabhav shali dhang se prastut aapki yah post waqai me kuchh kar gujarne ki khwahish paida karne wali hai.
bahut hi prerak post------
badhai------- poonam

Maheshwari kaneri said...

जीत उसकी होती है,जिसके सपनों में जान होती है
पंख होने से क्या होता है,हौसलो में उड़ान होती है...
विजयी बनो..आगे बढते चलो..चलते चलो..शुअकामनाओ सहित....

sarita sethi said...

Ek Jeewant Kavita.....

sarita sethi said...

Ek Jeevant Kavita......!!